साहित्य दुनिया

साहित्य दुनिया

सिकंदर की दूसरी किताब रिलीज़- ‘बदन से पहली मुलाक़ात याद है तुमको…. हमारा इश्क़ है उस वाक़ये से पहले का’

मौजूदा दौर में अच्छी शा’इरी करने वालों की तादाद कम हो गयी है लेकिन अभी भी मंज़र-ए-आम पर कुछ ऐसे शा’इर मौजूद हैं जो अपनी शानदार शा’इरी से लोगों का मन-मोह रहे हैं. ऐसे ही एक शा’इर हैं इरशाद ख़ान ‘सिकंदर’, सिकंदर की किताब ‘दूसरा इश्क़’ मंज़र-ए-आम पर आ चुकी है. राजपाल प्रकाशन से प्रकाशित […]

Read More
साहित्य दुनिया

Birthday Special: इस दौर के सबसे मक़बूल शायरों में से एक राहत इन्दौरी; ‘हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा’

इस दौर के सबसे मक़बूल शायरों में से एक राहत इन्दौरी साहब का आज जन्मदिन है. राहत साहब का जन्म 1 जनवरी, 1950 को मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ. राहत साहब ने देश-विदेश के कई शहरों में मुशा’इरे पढ़े हैं और इसके अलावा उन्होंने कई फ़िल्मों में गीत भी लिखे हैं. उर्दू लिटरेचर में पीएचडी […]

Read More
साहित्य दुनिया

मौजूदा दौर में ग़ालिब सिर्फ़ स्टेटस सिम्बल की तरह है: पराग अग्रवाल

“हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे, कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और” ~ ग़ालिब उर्दू शा’इरी में यूँ तो मिर्ज़ा ग़ालिब से बड़ा कोई नाम नहीं है लेकिन आजकल के दौर में देखें तो ग़ालिब को समझने वाले कम और उनका नाम बतौर फैशन इस्तेमाल करने वाले ज़्यादा हैं. आज ग़ालिब […]

Read More
साहित्य दुनिया

ग़ालिब जितने बड़े शा’इर थे उतने ही बड़े फ़िलोसफ़र भी थे: ज़ीशान मीर

मशहूर शा’इर मिर्ज़ा ग़ालिब का आज 220वाँ जन्मदिन है. उर्दू और फ़ारसी के मशहूर शा’इर मिर्ज़ा असद उल्लाह बेग़ ख़ान का जन्म 27 दिसम्बर, 1797 को हुआ था. उन्होंने कुछ वक़्त “असद” तख़ल्लुस में शा’इरी की लेकिन बाद में उन्होंने “ग़ालिब” तख़ल्लुस का इस्तेमाल किया. आज के दौर में भी अगर देखा जाए तो उनसे […]

Read More
error: Content is protected !!