घनी कहानी छोटी शाखा में बालकृष्ण भट्ट की कहानी ‘पंच महाराज’

माथे पर तिलक, पाँव में बूट अचकन और पायजामा के एवज में कोट और पैंट पहने हुए पंच जी को आते देख मैं बड़े भ्रम

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: चिनुआ अचेबे की कहानी “बंद राहें” का अंतिम भाग

बंद राहें चिनुआ अचेबे भाग-2 (अब तक आपने पढ़ा..मायकल ओबी को बहुत कम उम्र में ही नड्यूम केंद्रीय विद्यालय के प्रधानाचार्य का पद मिलता है

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: चिनुआ अचेबे की कहानी “बंद राहें” का पहला भाग

बंद राहें भाग-1 माइकल ओबी की इच्छा उम्मीद से पहले ही पूरी हो गयी थी। जनवरी 1949 में नड्यूम केंद्रीय विद्यालय के प्रधानाचार्य के पद

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: जयशंकर प्रसाद की कहानी “तानसेन” का अंतिम भाग

तानसेन- जयशंकर प्रसाद भाग-2 (अब तक आपने पढ़ा…प्रकृति के घनी ख़ूबसूरती के बीच जा रहा एक पथिक प्यास से व्याकुल हो जल ढूँढना चाहता है

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: जयशंकर प्रसाद की कहानी “तानसेन” का पहला भाग

तानसेन- जयशंकर प्रसाद भाग-1 यह छोटा सा परिवार भी क्या ही सुन्दर है, सुहावने आम और जामुन के वृक्ष चारों ओर से इसे घेरे हुए

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: शरतचंद्र चट्टोपाध्याय की कहानी “विलासी” का अंतिम भाग

विलासी- शरतचंद्र चट्टोपाध्याय भाग- 2 (अब तक आपने पढ़ा….किसी गाँव के लड़के की डायरी के पन्नों से गाँव की एक कहानी चल निकली है। उस

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: शरतचंद्र चट्टोपाध्याय की कहानी “विलासी” का पहला भाग

विलासी- शरतचंद्र चट्टोपाध्याय भाग- 1 पक्का दो कोस रास्ता पैदल चलकर स्कूल में पढ़ने जाया करता हूँ। मैं अकेला नहीं हूँ, दस-बारह जने हैं। जिनके

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: भुवनेश्वर की कहानी ‘माँ-बेटे’ का अंतिम भाग

माँ-बेटे – भुवनेश्वर भाग-2 (अब तक आपने पढ़ा…घर में बड़ी-बूढ़ी माँ मरणासन्न पड़ी है और पास-पड़ोस ही नहीं बल्कि घर के लोग भी अब इस

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: भुवनेश्वर की कहानी ‘माँ-बेटे’ का पहला भाग

माँ-बेटे – भुवनेश्वर भाग-1 चारपाई को घेरकर बैठे हुए उन सब लोगों ने एक साथ एक गहरी साँस ली। वह सब थके-हारे हुए ख़ामोश थे।

आगे पढ़ें..

घनी कहानी, छोटी शाखा: आचार्य चतुरसेन की कहानी ‘न मालूम सी एक ख़ता’ का अंतिम भाग

न मालूम सी एक ख़ता- आचार्य चतुरसेन भाग-3 (अब तक आपने पढ़ा…बादशाह अपनी नयी बेगम सलीमा के सतह विवाह के बाद से ही कश्मीर के

आगे पढ़ें..

error: Content is protected !!