दो शाइर दो रूबाई

दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर दो रूबाई (8): शाद अज़ीमाबादी और भारतेंदु हरिश्चंद्र

शाद अज़ीमाबादी की रूबाई चालाक हैं सब के सब बढ़ते जाते हैं अफ़्लाक-ए-तरक़्क़ी पे चढ़ते जाते हैं मकतब बदला किताब बदली लेकिन हम एक वही सबक़ पढ़ते जाते हैं __________________________ __________________________ भारतेंदु हरीश्चन्द्र की रूबाई रहमत का तेरे उम्मीद-वार आया हूँ मुँह ढाँपे कफ़न में शर्मसार आया हूँ आने न दिया बार-ए-गुनह ने पैदल ताबूत […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर दो रूबाई (12): अल्ताफ़ हुसैन हाली और फ़ानी बदायूँनी..

अल्ताफ़ हुसैन हाली की रुबाई हैं जहल में सब आलिम ओ जाहिल हम-सर, आता नहीं फ़र्क़ इस के सिवा उन में नज़र आलिम को है इल्म अपनी नादानी का जाहिल को नहीं जहल की कुछ अपने ख़बर _________________________________ फ़ानी बदायूँनी की रूबाई अब ये भी नहीं कि नाम तो लेते हैं दामन फ़क़त अश्कों से […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर दो रूबाई (11): जोश मलीहाबादी और नरेश कुमार शाद

जोश मलीहाबादी की रूबाई ग़ुंचे तेरी ज़िंदगी पे दिल हिलता है, सिर्फ़ एक तबस्सुम के लिए खिलता है ग़ुंचे ने कहा कि इस चमन में बाबा ये एक तबस्सुम भी किसे मिलता है ____________________________ नरेश कुमार शाद की रूबाई चेहरे की तब-ओ-ताब में कौंद लपके, आँखों में हसीन रात पलकें झपके, एहसास की उँगलियाँ जो […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर दो रूबाई (10): शाद अज़ीमाबादी और जोश मलीहाबादी

शाद अज़ीमाबादी की रूबाई सौ तरह का मेरे लिए सामान क्या पूरा इक उम्र का अरमान क्या सय्यद से मिला प मदरसा भी देखा ‘हाली’ ने अजब तरह का एहसान किया ___________________________________ जोश मलीहाबादी की रूबाई साहिल, शबनम, नसीम, मैदान-ए-तुयूर ये रंग ये झूठ-पुटा ये ख़ुनकी ये सुरूर ये रक़्स-ए-हयात और दरिया के उधर टूटी […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर दो रूबाई (6): मीर और सादिक़ैन

मीर तक़ी मीर की रूबाई तुम तो ऐ महरबान अनूठे निकले जब आन के पास बैठे रूठे निकले क्या कहिए वफ़ा एक भी वअ’दा न किया ये सच है कि तुम बहुत झूठे निकले ….. सादिक़ैन की रूबाई इस शाम वो सर में दर्द सहना उसका, मैं पास हुआ तो दूर रहना उसका मुझसे ज़रा […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर दो रूबाई (5): ग़ालिब और फ़िराक़..

मिर्ज़ा ग़ालिब की रूबाई कहते हैं कि अब वो मर्दम-आज़ार नहीं उशशाक़ की पुरसिश से उसे आर नहीं जो हाथ कि ज़ुल्म से उठाया होगा क्यूँकर मानूँ कि उसमें तलवार नहीं (मर्दम-आज़ार: इंसानों को सताने वाला,उशशाक़- प्रेमियों, पुरसिश- पूछताछ, आर- अनबन) नोट- मिर्ज़ा ग़ालिब उर्दू के सबसे महान शा’इरों में शुमार किये जाते हैं. असद […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर, दो रूबाई (4): सौदा और अनीस..

दो शा’इर, दो रूबाई सीरीज़ में आज हम मशहूर शा’इर मिर्ज़ा रफ़ी सौदा और महान शा’इर और उर्दू शा’इरी का शेक्सपियर कहलाये जाने वाले मीर अनीस की एक रूबाई पेश कर रहे हैं. उनके साथ अख़्तर अंसारी की भी एक रूबाई हम पाठकों से साझा कर रहे हैं. सौदा की रूबाई: गर यार के सामने […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर दो रूबाई (3): ग़ालिब और फ़िराक़..

मिर्ज़ा ग़ालिब की रूबाई दुःख जी के पसंद हो गया है ‘ग़ालिब’, दिल रुककर बन्द हो गया है ‘ग़ालिब’, वल्लाह कि शब् को नींद आती ही नहीं, सोना सौगंद हो गया है ‘ग़ालिब’ …. नोट- मिर्ज़ा ग़ालिब उर्दू के सबसे महान शा’इरों में शुमार किये जाते हैं. असद उल्लाह ख़ा “ग़ालिब” का जन्म 27 दिसंबर, […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर, दो रूबाई(2) : सादिक़ैन और इस्माइल मेरठी..

सादिक़ैन की रूबाई बचपन में तुझे याद किया था मैंने, जब शे’र का कब लफ़्ज़ सुना था मैंने, इस पर नहीं मौक़ूफ़ रुबाई तुझ को हर रोज़ ही तख़्ती पे लिखा था मैंने (मौक़ूफ़- निर्भर) नोट- 1923 में पैदा हुए सादिक़ैन पाकिस्तान के इतिहास के सबसे शानदार पेंटर और कैलीग्राफ़र माने जाते हैं. वो एक […]

Read More
दो शाइर दो रूबाई शाइरी साहित्य दुनिया

दो शा’इर, दो रूबाई (1): मीर अनीस और अख़्तर अंसारी…

आज हम साहित्य दुनिया में रूबाई की सीरीज़ शुरू कर रहे हैं. दो शा’इर, दो रूबाई सीरीज़ में आज हम मर्सिया और रूबाई के महान शा’इर और उर्दू शा’इरी का शेक्सपियर कहलाये जाने वाले मीर अनीस की एक रूबाई पेश कर रहे हैं. उनके साथ अख़्तर अंसारी की भी एक रूबाई हम पाठकों से साझा […]

Read More
error: Content is protected !!