दो शा’इर, दो ग़ज़लें (16): निदा फ़ाज़ली और अल्लामा इक़बाल

निदा फ़ाज़ली की ग़ज़ल: कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता,
कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता

तमाम शहर में ऐसा नहीं ख़ुलूस न हो
जहाँ उमीद हो इस की वहाँ नहीं मिलता

कहाँ चराग़ जलाएँ कहाँ गुलाब रखें
छतें तो मिलती हैं लेकिन मकाँ नहीं मिलता

ये क्या अज़ाब है सब अपने आप में गुम हैं
ज़बाँ मिली है मगर हम-ज़बाँ नहीं मिलता

चराग़ जलते हैं बीनाई बुझने लगती है
ख़ुद अपने घर में ही घर का निशाँ नहीं मिलता

रदीफ़: नहीं मिलता
क़ाफ़िए: जहाँ, आसमाँ, वहाँ, हम-ज़बाँ,निशाँ
____________________________________
____________________________________

अल्लामा मुहम्मद “इक़बाल” की ग़ज़ल: तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ

तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ
मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ

सितम हो कि हो वादा-ए-बे-हिजाबी
कोई बात सब्र-आज़मा चाहता हूँ

ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को
कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

ज़रा सा तो दिल हूँ मगर शोख़ इतना
वही लन-तरानी सुना चाहता हूँ

कोई दम का मेहमाँ हूँ ऐ अहल-ए-महफ़िल
चराग़-ए-सहर हूँ बुझा चाहता हूँ

भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी
बड़ा बे-अदब हूँ सज़ा चाहता हूँ

रदीफ़: चाहता हूँ
क़ाफ़िए: इंतिहा, क्या, आज़मा, सामना, सुना, बुझा, सज़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!