ख़ज़ाना-ए-क़ाफ़िया

जब भी कोई शेर कहना चाहता है तो उसके लिए सबसे ज़रूरी चीज़ होती है क़ाफ़िया, रदीफ़ और वज़्न। जहाँ क़ाफ़िये से शेर को एक

आगे पढ़ें..

error: Content is protected !!