अलविदा राहत साहब…

कल सुबह जब मैं उठा तो ये ख़बर आ रही थी कि राहत इन्दौरी साहब की तबीअत ख़राब हो गई है. उन्हें कोरोना संक्रमण हुआ है और इस वजह से उन्हें इंदौर के एक अस्पताल में दाख़िल किया गया है. यूँ तो मुझे ये बहुत चिंता की बात नहीं लगी क्यूँकि बहुत सारे लोगों को कोरोना हो रहा है और बहुत से लोग ठीक भी हो रहे हैं. शाम होने से पहले मेरे पास एक मैसेज आया जिसने मुझे जानकारी दी कि राहत साहब गुज़र गए. एक पल को उस मैसेज पर मुझे यक़ीन ही नहीं हुआ. फिर मालूम हुआ कि लगभग सभी चैनल पर इस तरह की ख़बर चल रही है.

मैंने इंदौर अपने एक अज़ीज़ दोस्त ज़ीशान को फ़ोन किया. ज़ीशान ने बताया कि सतलज भाई (राहत साहब के बेटे) का फ़ोन बंद आ रहा है लेकिन पता करके बताता हूँ. कुछ पाँच मिनट के बाद ज़ीशान ने कॉल बैक किया और उसने इस ख़बर की पुष्टि की.

सच कहूँ तो इस ख़बर ने दिल तोड़ दिया..कुछ ऐसी हालत मेरे ज़हन की हो गई है कि कुछ ऐसा है जो चला गया है लेकिन क्या ये मालूम नहीं चल रहा है. राहत साहब से तो मेरी कोई मुलाक़ात भी नहीं थी. मैं इंदौर भी कई बार गया हूँ और राहत साहब भी कई बार लखनऊ आये..ऐसा मौक़ा हो सकता था कि मैं उनसे किसी तरह मिल पाऊं.. राहत साहब के बेटे सतलज राहत (सतलज भाई) से तो मेरी अच्छी दोस्ती भी है. एक बार राहत साहब का आना लखनऊ हुआ, उनके साथ सतलज भाई भी आये. मुझे मालूम हुआ कि सतलज भाई भी आये हैं तो उनसे मिलने मैं पहुँच गया. अमीनाबाद के एक होटल के कमरे में राहत साहब आराम फ़रमा रहे थे, बहुत मन होता था राहत साहब से मिलने को लेकिन हमारे ज़हन में उनका मर्तबा उस्ताद का है और तहज़ीब कहती है कि उस्ताद से सीखो लेकिन उस्ताद को परेशान न करो. और फिर सतलज भाई भी अच्छे शाइर हैं तो हम उनकी शाइरी सुनने लगे.

राहत साहब से मेरा जुड़ाव कब और कैसे हुआ उसके बारे में कहूँ तो.. राहत साहब के बारे में मैंने तब ठीक से सुनना शुरू किया जब ऑरकुट चल रहा था और मुझे लगा कि शेर ओ शाइरी पढ़कर वक़्त कम करना चाहिए. धीरे-धीरे इंटरेस्ट बढ़ा तो सोचा कि शाइरी करनी चाहिए फिर मालूम हुआ कि इसके तो बड़े नियम और क़ायदे हैं. मालूम हुआ कि बह्र, रदीफ़, क़ाफ़िए, वग़ैरा तो ठीक हैं लेकिन उस्ताद शाइरों को पढ़ना सबसे अहम है. ऐसे में हमारे पूरे ग्रुप ने शाइरों को पढ़ना शुरू किया.. सबसे पहले जिन चंद शाइरों को हमने पढ़ा उनमें राहत साहब का नाम आता है और उसके बाद हमने न जाने कितने शाइरों को पढ़ा लेकिन राहत साहब को हमेशा पढ़ते रहे. शुरू से लेकर अंत तक राहत साहब की शाइरी ने हमें सिखाया, ग़ज़ल कैसे कहें, रियाज़त कैसे हो, कैसे पेश करें…. कोई मुलाक़ात नहीं हुई लेकिन अपने उस्ताद से हमने हमेशा सीखने की कोशिश की..

राहत साहब को जन्नत में ऊँचा मक़ाम मिले..

“ये बूढ़ी क़ब्रें तुम्हें कुछ नहीं बताएँगी,
मुझे तलाश करो दोस्तों यहीं हूँ मैं”

~ राहत इंदौरी

_________________________________________________________________________________________________________________
(इस लेख को ‘साहित्य दुनिया’ टीम की ओर से अरग़वान रब्बही ने लिखा है)

2 thoughts on “अलविदा राहत साहब…

  1. 2010 में राहत इंदौरी का ये शेर मैंने फेसबुक पर कहीं पढ़ा था

    मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भँवर है जिस की
    तुम ने अच्छा ही किया मुझ से किनारा कर के

    ये शेर पढ़ने के बाद मैंने “चांद पागल है “ किताब ऑर्डर की । फिर जितनी बार भी राहत इंदौरी को पढ़ा , सुना , देखा हर बार कुछ राहत मिली । एक बार मैं , मेरा भाई और शायद पापा गाडी से गुड्गांव से हिसार आ रहे थे तो सारे सफर के दौरान हमने अच्छी खासी आवज में राहत इंदौरी की गज़लें युट्युब पर सुनी और खूब वाह वाह की । उस सफर की यादें आज भी ताजा हैं ।
    कुछ शायर , गीतकार ऐसे हैं जिनकी रचनाओं के कारण इतना जुडाव बन जाता हैं वो जब जाते हैं तो लगता है आपके पास से कोई चला गया । आप वो खालीपन महसूस कर सकते हो । शायद ही कोई दिन ऐसा जाता हो जब राहत इंदौरी के किसी शेर से सामना न होता हो । “ किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है “ ये शेर ही ऐसा है जो कहीं न कहीं दिख ही जाता है जितनी बार इसे पढ़ते हैं उतनी बार अच्छा फील होता है । “ झूठों ने झूठों ने कहा है सच बोलो “ “ घर के अंदर झूठों की एक मंडी है , घर के बाहर लिखा हुआ है सच बोलो “ ऐसे शेर पढ़कर जो फीलिंग होती है उसे बयाँ कर पाना बहुत मुश्किल हैं । जुल्म से ,जालिम से लड़ने के लिये , डिप्रेशन, हताशा, निराशा के समय राहत इंदौरी की शायरी एक टॉनिक का काम करती है
    न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा
    हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा
    राहत इंदौरी की गज़लों से हौंसला मिलता है, मुस्कान मिलती हैं निराशा के वक्त आप जब पढ़ते हो
    “सितारो आओ मिरी राह में बिखर जाओ
    ये मेरा हुक्म है हालाँकि कुछ नहीं हूँ मैं “
    तो अपने आप चेहरे पर मुस्कान आ जाती है । और ये मुस्कान , हौंसला बनावटी नहीं होता
    जब से तुने हल्की हल्की बातें की
    यार तबीयत भारी भारी रहती है
    जाने कितने शेर याद आ रहे हैं । राहत इंदौरी के लिये आम जनता के दिल में जो प्यार हैं महोब्बत हैं वो उसे फेसबुक , व्हातसप स्टेट्स में साफ देखा जा सकता हैं । उनकी शायरी हमारे दिलों में हमेशा रहने वाली हैं

    1. बेशक.. राहत साहब की शाइरी हमारे दिलों में हमेशा रहेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!