Day: January 16, 2019

कहानियाँ घनी कहानी छोटी शाखा

घनी कहानी, छोटी शाखा: मुंशी प्रेमचंद की कहानी “ढपोरशंख” का पहला भाग

ढपोरशंख- मुंशी प्रेमचंद  भाग-1  मुरादाबाद में मेरे एक पुराने मित्र हैं, जिन्हें दिल में तो मैं एक रत्न समझता हूँ पर पुकारता हूँ ढपोरशंख कहकर और वह बुरा भी नहीं मानते। ईश्वर ने उन्हें जितना ह्रदय दिया है, उसकी आधी बुद्धि दी होती, तो आज वह कुछ और होते ! उन्हें हमेशा तंगहस्त ही देखा; मगर […]

Read More
इवेंट्स

परिचर्चा 2 में ‘हिन्दी साहित्यिक विधाओं में महिलाओं की कमी’ और ‘भाषा का विज्ञान’ विषयों पर हुई चर्चा

साहित्य दुनिया और जस्ट बुक्स अंधेरी की ओर से गुज़िश्ता रविवार को आयोजित की गई परिचर्चा में दो विषयों पर चर्चा की गई- ‘हिन्दी साहित्यिक विधाओं में महिलाओं की कमी’ और ‘भाषा का विज्ञान’।

Read More
एक शाइर सौ शेर शाइरी

एक शाइर, सौ शेर: जिगर मुरादाबादी

1- अपना ज़माना आप बनते हैं अहल-ए-दिल हम वो नहीं कि जिनको ज़माना बना गया 2- आँखों का क़सूर था न दिल का क़सूर था आया जो मेरे सामने मेरा ग़ुरूर था 3- वो थे न मुझसे दूर न मैं उनसे दूर था आता न था नज़र तो नज़र का क़सूर था 4- जिस दिल […]

Read More
error: Content is protected !!