मजाज़ की ग़ज़ल: दर्द की दौलत-ए-बेदार अता हो साक़ी

दर्द की दौलत-ए-बेदार अता हो साक़ी
हम बही-ख़्वाह सभी के हैं भला हो साक़ी

सख़्त-जाँ ही नहीं हम ख़ुद-सर-ओ-ख़ुद्दार भी हैं
नावक-ए-नाज़ ख़ता है तो ख़ता हो साक़ी

सई-ए-तदबीर में मुज़्मर है इक आह-ए-जाँ-सोज़
उस का इनआ’म सज़ा हो कि जज़ा हो साक़ी

सीना-ए-शौक़ में वो ज़ख़्म कि लौ दे उठ्ठे
और भी तेज़ ज़माने की हवा हो साक़ी

असरार उल हक़ “मजाज़”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!